Categories
Uncategorized

बस यूँही………

The all enveloping darkness of the night was only broken by a solitary light. The wordless silence reigned unchallenged, it’s absolute diktat would remain till daybreak….

By abchandorkar

Consultant Interventional Cardiologist, Pune, India

8 replies on “बस यूँही………”

आजकल दिनमे भी खुले नैन सपने देखते है,
तूने ही कहा था सपनोमेँ आके मिलेंगे,
दिन के उजाले में रात का इंतजार रहता है,
तूने ही कहा था रात की तन्हाई में आके मिलेंगे,
ऊपर आसमान में बदरी से बतियाते है,
तूने ही कहा था आजकल तेरे घर से बदरियां गुजरती है,
तारों की महफ़िल में चांद को घूरते है,
तूने ही कहा था मेरा चांद भी तूं ही है…

Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s