Categories
Uncategorized

बस यूँही

The wintry morn arrived shrouded in a dense fog. The Sun was not visible at all, an unusual event for the time of the year. I wonder if it is shy at the arrival of the foster child

By abchandorkar

Consultant Interventional Cardiologist, Pune, India

14 replies on “बस यूँही”

कल फिर सुबह होगी,कोहरा हटेगा,और आफताब लौट आएगा,
वही इंतजार में,मेरे चांद का कब दीदार होगा और चैन लौट आएगा,
गम-ए-दिल की चद्दर कब हटेगी और दिल का सुकून लौट आएगा….

Liked by 1 person

कोहरे की चद्दर ओढ़,मानो सूरजने एक और शाम पेश कर दी,
रातभर की गुफ्तगू कम थी,थोड़ी और घड़ियां मानो पेश कर दी….

Liked by 1 person

तेरे बेइंतहा इंतजार के गम के बादल वो आफताब भी देख न पाया,
कोहरे के बहाने छिप के वो तेरे और ख्वाब देखने का मौका दे पाया….

Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s